Posts

Showing posts from June, 2017

पंचतंत्र की कहानी - खटमल और मच्छर

Image
बहुत पुरानी बात है। एक राजा था। वह जब भी अपने शयन कक्ष में आराम करने आता, एक खटमल उसके बिस्तर के नीचे से निकल कर उसके पैर के तलवे पर डंक मारकर उसका खून चूसता। राजा का खून चूस कर वह खटमल काफी मोटा हो गया था|

एक दिन राजा के कमरे कि खिड़की खुली रह गई। वहां बाहर से एक मच्छर उड़ता हुआ अन्दर आ गया। खटमल ने मच्छर के भिनभिनाने कि आवाज सुनी तो वह अपने छिपने की जगह से बाहर आ गया। बाहर आकर उसने देखा की एक मच्छर बड़ी तेजी से उस शयन कक्ष में उड़ रहा है। खटमल ने मच्छर को देख कर पुछा कि तुम यहाँ किसकी इजाज़त से आये हो?

मच्छर खटमल की बात सुनकर जवाब देता है कि सामने की खुली खिड़की से वह अंदर आया है। उसका जवाब सुनकर खटमल कहता है की यह राजा का शयन कक्ष है, और यहाँ आने के लिए अनुमति लेनी पड़ती है। मच्छर कहता हैं कि वह एक नादान मच्छर है और कहीं भी बेरोक-टोक के आ जा सकता है| उसे कहीं भी आने-जाने के लिए किसी की भी अनुमति कि जरूरत नहीं होती। मच्छर से ऐसा जवाब सुनकर खटमल ठिठक जाता है और फिर अपने आप को सँभालते हुए बोलता है कि तुम कहीं भी आ जा सकते हो लेकिन ये राजा का शयन कक्ष है और तुम यहाँ मेरी अनुमति के बगैर नहीं रह …