Thursday, 27 April 2017

पंचतंत्र की कहानी - वृक्ष देवता

पुराने समय की बात है | एक गाँव में दो दोस्त रहते थे। एक का नाम राजू  और दूसरे का नाम रमन था। राजू बहुत ईमानदार, मेहनती और अच्छे स्वाभाव का व्यक्ति था | परइसके विपरीत रमन बहुत दुष्टऔर धोखेबाज प्रवति का व्यक्ति था| एक दिन रमन के दुष्टदिमाग ने सोचा की राजू बहुत ईमानदार और मेहनती है | और इसका नई – नई योजना बनाने मे कोई  जबाब नहीं क्यों न राजू की दोस्ती का फायदा उठाया जाए। उसकी मेहनत और बुद्धिमानी से कमाए धन कमाया जाए और बाद मै उसका धन बड़ी चालाकी से हड़प लियाजाए|

यह सोचकर वह रमन, राजू  के पास जाता है | ओर बोलता है, मेरे दोस्त मैंने सोचा है कि हम दोनों को शहर जाकर धन कमाना चाहिए ताकि हमारा जीवन आराम से व्यतीत कर सके |  राजू को ये बात अच्छी लगी और रमन के साथ जाने के लिए वहतैयार हो गया | अगले ही दिन दोनों शहर की ओर चल देते है। और शहर मे दोनों को एक सेठ के पास नौकरी मिल जाती है | दोनों काफी लम्बे समय तक सेठ के पास नौकरी करते रहें | जिससे दोनों के पास बहुत सा धन अर्जित हो चूका था | काफी धन कमाने के बाद उन दोनों ने घर वापस जाने की योजना बनाई। और अगली सुबह दोनों मित्र अपना – अपना धन लेके गाँव की चल देते है | उनके गाँव के रास्ते में एक घना जंगल आता था | अभी दोनों आधे रास्ते पहुंचे ही थे कि रमन ने राजू से कहा, कि दोस्त इतना सारा धन हमें साथ ले जाना खतरे से खाली नहीं होगा। इसलिए हम इस धन को पास के जंगल में गाड़ देते है | और थोड़ा - थोड़ा धन अपनी आवश्यकता अनुसार रख लेते है | और जब हमें धन की आवश्यकताहोगी तो हम वापस यंहा आकरधन लेलेंगे। दोनों ने आपसी सहमती से धन को एक बरगद पेड़ के निचे गाड़ देते है | और गाँव चले जाते है।

और उसी रात रमन जंगल में जाकर अपना और राजू का धन निकाल लाता है | और अपने घर मे ला कर छुपा देता है । कुछ दिनों के पश्चात् रमन राजू के पास जाता है | और मासूम बनकर राजू से बोलता है, राजू मेरे मित्र मुझे कुछ धन की आवशक्ता है मुझे कुछ जरुरी काम आन पढ़ा है | तुम मेरे साथ जंगल चलो वंहा जाकर थोड़ा धन ले आते है। दोनों मित्र जंगल मे उस बरगद के पेड़ के पास पहुंचते है | वहाँ पहुँचकर खोदना शुरू किया और रमन ने  देखा की धन वहाँ नहीं है। यह देख कर रमन आशचर्य से उछल पड़ता है और चिल्लाता है | और बोलता है, राजू तुम्ही चोर हो तुमने ही मेरा सारा धन चुराया है, तुम्हारे और मेरे अलावा किसी और को इस बात का पता नहीं था|  इसका मतलब यह है की सारा धन तुमने ही चुराया है। राजू ने कहा ये तुम क्या बोल रहे हो मित्र मैंने धन नहीं चुराया है, मेरा विश्वाश करो । फिर राजू ने कहा | तुम अगर मेरे धन वापस नहीं करोगे तो मे पंचायत मै जाऊंगा | राजू ने अपने आप को सही साबित करने की पूरी कोशिश की पर रमन ने एक न मानि और दोनों पंचायत के पास पहुंचे है ।


रमन, राजू पे चोरी का आरोप लगाते हुए| मुखिया जी राजू ने मेरे पैसे चुराए है, और अब ये मुकर रहा है | अब आप ही न्याय करे | राजू नहीं मुखिया जी मैंने कोई चोरी नहीं की है |  इस पे मुखिया ने कहा | तुम दोनों के पास अपनी बाते सही साबित करने का कोई प्रमाण नहीं है| यह सुन कर रमन तुरंत बोलता है, नहीं मुखिया जी मेरे पास प्रमाण है | और इस पर पंचायत के सभी लोग हैरानी से एक दुसरे को देखते है| और मुखिया ने पूछा ऐसा कौन सा प्रमाण है तुम्हारे पास? रमन -  मुखिया जी जिस बरगद के नीचे हम दोनों ने धन गाडा था| उस बरगद मे सदियों से वृक्ष देवता रहते है | उन्होंने इसे चोरी करते हुए जरुर देखा होगा? मेरा पूरा विश्वास है उन पर| अगर उनसे चोरी के बारे मे पूछा जाये तो वह जरुर बताएँगे|


यह बात सुन कर मुखिया समझ जाते है, कि रमन की यह कोई न कोई चाल है | और मुखिया गाँव के सभी लोगो के साथ वंहा पहुँचते है, जंहा राजू और रमन ने धन को गाडा था | वंहा पर पहुंच कर वृक्ष देवता से बोलते है |

वृक्ष देवता जी कृपया करके ये बताए कि धन किसने चुराया है?  अब सारा फैसला आप के ही हाथ मै है |  मुखिया के बोलते ही तुरंत ही आवाज़  आती है |

सारा धन राजू ने ही चुराया है। ये सारी करतूत उसी की है | पेड़ से आवाज़ सुन कर सभी लोग आश्चर्य हो जाते है।  तभी मुखिया राजू को कुछ सुखी लकड़िया इक्कठी करने को बोलता है | और पेड़ के चारो तरफ रखने को बोलता है | और उसमे आग लगा देने को बोलता है |


जैसे ही आग जलने लगती है | गाँव के सभी लोग देखते है कि पेड़ की खोकर मे से कोई बुढा खांसताहुआ बाहरआता है | परवह बूढ़ा व्यक्ति कोई और नहीं रमन का पिता होता है | जिसे रमन ने पेड़ की छाल मे छिपा दिया था |

तभी मुखिया हँसते हुए बोलता है | मै तो तुम्हारी चालाकी पहले ही समझ गया था | मैंने ये सब नाटक इसलिए किया कि गाँव बालो को तुम्हारी असलियत पता चल सके | रमन शर्मिंदा हो जाता है | और सब से क्षमामांगते हुएबोलता है | मुझे माफ़ कर दो मै लालच मे आ गया था | और बाकि सभी गाँववालो से और राजू से माफ़ी मांगता है |

सारांश : !! हमें किसी का भी बुरा नहीं करना चाहिए !!

और बेहतरीन कहानियों एवम कार्टून शोज का लुत्फ़ उठाने के लिए सब्सक्राइब करें हमारे यूट्यूब चैनल महा कार्टून टीवी पर।


समाप्त !



 Click  =>>>>> Hindi Cartoon  for more Panchatantra Stories.......