Friday, 19 May 2017

प्लेंटीमोन और स्कूबी राक्षस | हिंदी कार्टून

प्लेंटीमोन हमेशा कि तरह सुबह देर से उठता है | उधर प्रिंसेस को पता चलता है कि प्लेंटीमोन के स्कूल में अजीबो-गरीब घटनायें हो रही होती हैं, जिससे  प्रिंसेस को शक होता है कि स्कूल में ही कोई राक्षस छिपा हुआ है|

स्कूल पहुंचने पर प्लेंटीमोन को पता चलता है कि आज एक नया विद्यार्थी क्लास में आएगा | तभी अध्यापिका क्लास में आती हैं और नए विद्यार्थी का परिचय करवाती हैं | प्लेंटीमोन यह देखकर हैरान रह जाता  है कि यह विद्यार्थी कोई और नहीं खुद प्रिंसेस ही होती है | क्लास के बाद सभी बच्चे, प्रिंसेस से मिल रहे होते हैं कि तभी उनमें से एक लड़का (गोगी) प्रिंसेस का मजाक उडाता है | इससे प्रिंसेस नाराज़ हो जाती है और जादुई शक्ति से गोगी का मुहँ बंद कर देती है | तभी प्लेंटीमोन वहां आ जाता है और प्रिंसेस को वहाँ से ले जाता है | प्लेंटीमोन, प्रिंसेस को समझाता है कि उसे(प्रिंसेस) सबके सामने अपनी शक्ति का प्रयोग नहीं  करना चाहिए | लेकिन प्रिंसेस उसकी(प्लेंटीमोन) बात नहीं मानती और दोबारा से शक्ति का इस्तेमाल करती है| 

इसके बाद स्कूल में लंचटाइम हो जाता है| प्रिंसेस, पहली बार स्कूल में लंच को लेकर बहुत उत्साहित होती है| लेकिन जैसे ही वो देखती है कि खाने में “शिमला मिर्च” है तो वो जोर से चिल्लाती है और बताती है कि उसे ‘शिमला मिर्च’ से नफरत है| वो प्लेंटीमोन  को शिमला मिर्च खाते देख कर हैरान हो जाती है और पूछती है कि वो इसे कैसे खा सकता है| प्लेंटीमोन उसे बताता है कि खाना तो भगवान है | इसका आदर करना चाहिए|

उधर दूसरी तरफ शैतान “किटी-पाई” ये जानकार बहुत खुश होती है कि प्रिंसेस कि कमजोरी राज़ शिमला मिर्च है| वह अपनी जादुई शक्ति से, कूड़े में पड़ी ‘शिमला मिर्च’ से “स्कूबी” नाम के शैतान का निर्माण करती है | और वो उसे (स्कूबी) याद दिलाती है कि कैसे सब लोगो ने शिमला मिर्च को कूड़े में फैंक दिया करते थे|इसके बाद, किटी-पाई, स्कूबी शैतान को इंसानों पर हमला करने का आदेश देती है| 


स्कूल कि छुट्टी के बाद प्लेंटीमोन और प्रिंसेस घर पहुँचते हैं | घर पहुँचने पर प्रिंसेस को पता चलता है कि प्लेंटीमोन कि माँ ने भी आज खाने में ‘शिमला मिर्च’ बनाई है | लेकिन प्रिंसेस “शिमला मीर्च” सुनते ही परेशान हो जाती है और खाना खाने से मना कर देती है|

अगले दिन प्लेंटीमोन और प्रिंसेस साथ-साथ स्कूल में जाते हैं | लंचटाइम होने पर प्रिंसेस देखती है कि आज भी लंच में ‘शिमला मिर्च’ बनी है | यह देखकर प्रिंसेस परेशान हो जाती है | तभी प्लेंटीमोन देखता है कि खाना खा रहे सभी बच्चे एक-एक करके बेहोश हो रहे हैं | उसी समय वहां पर लोला और चिंटीया (चिन्तेश्वर) भी  आ जाते है| चिंटीया सबको बताता है कि प्लेंटीमोन कि माँ भी  शिमला मिर्च खाने से बेहोश हो गई थी पर अब वो ठीक है, तभी लोला उन्हें बताती है कि उसे लगता है कि यहाँ पर कोई बुरा शैतान है जो ये सब कर रहा है| प्लेंटीमोन सभी को कहता है कि हमें जल्द से जल्द उस शैतान को ढूढना होगा |

इसके बाद वो सभी शैतान स्कूबी को ढूँढने निकल जाते है|जैसे ही वह ऑडिटोरियम में पहुँचते हैं, स्कूबी शैतान उन पर हमला कर देता है, लेकिन चिंटीया उन्हें बचा लेता है| प्रिंसेस, स्कूबी शैतान से पूछती है कि वह कौन है और ऐसा क्यूँ कर रहा है| इस पर स्कूबी शैतान उन्हें बताता है कि वो शिमला मिर्च का शैतान “स्कूबी” है और वो इंसानों से उसके साथ हुए बुरे व्यवहार का बदला लेने आया है|

तब प्रिंसेस और प्लेंटीमोन, लोला और चिंटीया से अपनी शक्तियां लेकर स्कूबी शैतान का मुकाबला करते है| शैतान स्कूबी उन पर मिर्च स्प्रे से हमला करता है| लेकिन प्लेंटीमोन अपनी शक्तियों से सारा स्प्रे ऑडिटोरियम के वेंटिलेशन सिस्टम से बाहर निकाल देता है | इसके बाद प्लेंटीमोन अपनी शक्तियां, चिंटीया को देता है और वो मिलकर शैतान स्कूबी को हरा देते हैं और अंत में हमेशा कि तरह बुराई पर अच्छाई कि जीत होती है | ‘किटी-पाई’ शैतान यह देख कर बहुत गुस्सा होती है और उन्हें धमकी देते हुए कहती है कि अगली बार वो लोग नहीं बचेंगे  और गायब हो जाती है|

अगले दिन सुबह प्रिंसेस और प्लेंटीमोन, घर पर खाने का बड़ी बेसब्री से इन्तजार कर रहे होते है| तभी प्लेंटीमोन की माँ उनके लिये स्पेशल गरमागरम खाना लेकर आती है| जिसे देख कर प्रिंसेस बहुत खुश होती है और बड़े चाव से खाना खाने लगती है| इस पर प्लेंटीमोन कि माँ प्लेंटीमोन को बड़े धीरे से बताती है कि उसने इन खाने  के अंदर शिमला मिर्च डाली  है और ये सुन कर दोनों हसने लगते है|

समाप्त !!
Click  =>>>>> Hindi Cartoon  for more.......